कानून का बेटा

केशव पंडित की जवानी जेलों में गुजरी और जेलों में उसने कानून की किताबो को घोट घोट कर पड़ा । फिर वह ऐसा शातिर बन गया कि कानून की धाराओं के बीच से सुरंगे बनाकर अपने एक एक दुश्मन का सफाया करता चला गया । लोग उसे कानून का बेटा इसलिए कहने लगे क्यूंकि वह बड़े से बड़ा जुर्म करता परन्तु भारतीय दंड विधान की किसी धरा का उलंधन नहीं करता । इसलिए सदा कानून की पकड़ से बहार रहता ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>