वतन की कसम

vatan ki kasamयह उपन्यास उन क्रांतिकारियों को वेदप्रकाश शर्मा की श्रद्धांजलि है, जो हिंदुस्तान की आज़ादी के लिए अंग्रेजी हुकूमत से लोहा-लोहा लेते शहीद हो गए लेकिन हम आज उनकी वजह से आज़ादी की हवा में सांस ले रहे है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>