चक्रव्यहू

chakraview‘चक्रव्यूह’ उपन्यास नहीं बल्कि आपके लिए सचमुच का ‘चक्रव्यूह’ है ।
आप इस ‘चक्रव्यूह’ को तोड़ नहीं पाएंगे आर्तार्थ रहस्य खुलने से पहले
मुजरिम का नाम नहीं जान पाएंगे । कृपया इस उपन्यास के ‘अंत’ के बारे में किसी को कुछ न बताये ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>