देवकांता संतति भाग-१

devkanta santati 1-2यह वृहद कथानक चौदह भाग में है । इसमें विजय, विकास, और अलफांसे के पूर्व जनम की कथा लिखी गए है । इतना लम्बा कथानक है ये कि पूरे १ साल तक वेद प्रकाश इसे ही लिखते रहे थे और जब चौदहवें भाग में अंत लिखा तो पाठक तब भी प्यासे रहे गए । पड़ने वालो का कहना था की कथानक जल्दी खत्म हो गया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>