फंस गया अलफांसे

phas gaya alphaseयह कथानक लिखते वक़्त विकास का रौद्र रूप, अल्फाँसे के पैंतरे , सिंगही का सिंहनाद
और नुसरत-तुगलक के लटके-झटके वेद प्रकाश शर्मा के दिमाग से कूदकर कागज पर नाच उठे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>