क़त्ल ए आम

katal a aam यह क़त्ल-ऐ-आम विकास ने किया था । पर क्यों ? हमें यकीन है कि इस उपन्यास को पड़ने के बाद आपके मुह से एक ही बात निकलेगी, यह की विकास ने जो किया ठीक किया । क़त्ल-ऐ-आम ही उस समस्या का हल था जो देश के सामने मुंह बाए खड़ी थी ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>